बुधवार, 2 मार्च 2011

ऐसे उठते हैं लोग दिलों से

ऐसे उठते हैं लोग दिलों से , जैसे कॉफ़ी-हाउस में लोग
इस मेज से उठ कर , उस मेज पे जा बैठे हों

कब लगती है देर परिन्दों को उड़ने में
आसमान की बाहें हैं , साथी मगर चुप बैठे हैं

पल-लम्हें सब दम साधे हैं , कैसे बोलें
शोर भरे जब दूर दूर से , मन बैठे हों

कैसे कह दें महज इत्तफाक है जिन्दगी
कभी किस्मत का इन्साफ कभी मर्जी का सिला ले बैठे हैं

22 टिप्‍पणियां:

  1. कैसे कह दें महज इत्तफाक है जिन्दगी
    कभी किस्मत का इन्साफ कभी मर्जी का सिला ले बैठे हैं
    ab yahi kahne men bhalai hai bahut achhi abhivyakti , badhai

    उत्तर देंहटाएं
  2. कब लगती है देर परिन्दों को उड़ने में
    आसमान की बाहें हैं , साथी मगर चुप बैठे हैं
    Parinde to parinde hain...der saver udhee jate hain...
    Behtareen rachana!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कब लगती है देर परिन्दों को उड़ने में
    आसमान की बाहें हैं , साथी मगर चुप बैठे हैं

    खूब कहा शारदा जी ....बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. कैसे कह दें महज इत्तफाक है जिन्दगी
    कभी किस्मत का इन्साफ कभी मर्जी का सिला ले बैठे हैं

    यूं तो सारे शेर एक से बढ़कर एक है. बेहतरीन प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह!....क्या बात है!.....बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  6. ऐसे उठते हैं लोग दिलों से , जैसे कॉफ़ी-हाउस में लोग
    इस मेज से उठ कर , उस मेज पे जा बैठे हों



    बढ़िया लिखा है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब इत्तेफाक है। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  8. शारदा जी,

    बहुत खुबसूरत पोस्ट....आसमान की बाहें हैं......बहुत खूब|

    उत्तर देंहटाएं
  9. कैसे कह दें महज इत्तफाक है जिन्दगी
    कभी किस्मत का इन्साफ कभी मर्जी का सिला ले बैठे हैं.
    बहुत खूब...बेहतरीन प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  10. पल-लम्हें सब दम साधे हैं , कैसे बोलें
    शोर भरे जब दूर दूर से , मन बैठे हों bahut sunder...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बेहतरीन प्रस्तुति| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  12. मनोभावों का सुंदर काव्यमय रूपांतरण।

    उत्तर देंहटाएं
  13. कैसे कह दें महज इत्तफाक है जिन्दगी
    कभी किस्मत का इन्साफ कभी मर्जी का सिला ले बैठे हैं

    बहुत खूब ... jindgi kadvi hakeekat है जो ham ही bunte हैं ... ये ittefak नहीं hoti ...
    बहुत achhaa लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. 'ऐसे उठते हैं लोग दिलों से ,जैसे काफी हॉउस में लोग

    इस मेज से उठकर उस मेज पर जा बैठे हों'

    वर्तमान परिवेश में मानवीय संबंधों की संवेदनहीनता का यथार्थ चित्रण करती है आपकी सरल-सहज रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  15. शब्द शब्द
    मानो
    जिंदगी की कई बातें कह दी आपने
    अच्छा प्रयास !
    अभिवादन .

    उत्तर देंहटाएं
  16. कैसे कह दें महज इत्तफाक है जिन्दगी
    कभी किस्मत का इन्साफ कभी मर्जी का सिला ले बैठे हैं
    बहुत ही खूबसूरत शेर !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं