गुरुवार, 1 सितंबर 2011

महिवाल जवाब माँगे



दिल है तो कोई
गुलाब माँगे

धड़कने के बहाने
कोई ख़्वाब माँगे

आग के दरिया से
चुल्लू भर चनाब माँगे

इबारतें लिखने को
ज़ज्बा-ए-जुनूँ बेहिसाब माँगे

वक्त सदियों से
हिसाब माँगे

साहिल पे कच्चा घड़ा है
महिवाल जवाब माँगे

दिल है तो जाने
क्या क्या जनाब माँगे

9 टिप्‍पणियां:

  1. आग के दरिया से
    चुल्लू भर चनाब माँगे

    इबारतें लिखने को
    ज़ज्बा-ए-जुनूँ बेहिसाब माँगे

    वक्त सदियों से
    हिसाब माँगे
    Gazab kee panktiyan hain!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह शारदा जी बहुत ही मनमोहक रचना ……………बहुत पसन्द आई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इबारतें लिखने को
    ज़ज्बा-ए-जुनूँ बेहिसाब माँगे


    बहुत खूब ..अच्छी गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  4. इबारतें लिखने को
    ज़ज्बा-ए-जुनूँ बेहिसाब माँगे
    वाह,अच्छी है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सवल ही लाजवाब हैं तो जवाब तो मांगेगें ही ...
    लाजवाब प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. अच्छी गज़ल| बेहतरीन प्रस्‍तुति|

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं