रविवार, 13 जनवरी 2013

हादसे ही ले आये हैं

हादसों की न पूछो 
बचा न कुछ भी , जिस्मों-जाँ पूछो 

वक़्त हुआ है 
किस पे मेहरबाँ पूछो 

टूट गया दिल 
ढह गया मकाँ पूछो 

महकते थे गुल 
बचे हैं क्या निशाँ पूछो 

हादसे ही ले आये हैं 
इस मुकाँ पूछो 

मिट-मिट के हुआ है 
गम जवाँ पूछो 

जज़्बात हैं स्याही के सिवा 
लेखनी की जुबाँ पूछो 

12 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार 15/1/13 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह!!!बेहतरीन भाव संयोजन शारदा जी बहुत खूब....

    उत्तर देंहटाएं
  3. ...लाज़वाब! बहुत सटीक और अद्भुत अभिव्यक्ति..शारदा जी
    मुस्कुराहट पर ...ऐसी खुशी नहीं चाहता

    उत्तर देंहटाएं
  4. टूट गया दिल
    ढह गया मकाँ पूछो ...

    हालात को कहने का आपका अपना अंदाज बेहद लाजवाब है ...
    बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हौसला अफज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया ...

      हटाएं
  5. आपकी टिप्णियों से निसंदेह हौसला बढ़ता है ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. जज़्बात हैं स्याही के सिवा
    लेखनी की जुबाँ पूछो

    बहुत खूब ,,,
    सटीक लेखन ,,,,

    सादर .

    उत्तर देंहटाएं
  7. हादसों की न पूछो
    बचा न कुछ भी , जिस्मों-जाँ पूछो ..

    वाकई ..बहुत सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं