शुक्रवार, 18 सितंबर 2015

देख के कितना है रन्ज रिश्ते में

तू न देख के कितना है रन्ज रिश्ते में अपने,
तू ये देख के क्या क्या है निभाया मैंने 
सारी दुनिया मिलती है किसे ,
टुकड़ों में मिली धूप को कैसे गले लगाया मैंने 

तू मुझसे जुदा ही नहीं है ,
कैसे समझाये कोई अपने ही जिगर को 
बोले जो कभी भी तुम सख़्त होकर ,
दरक गया कुछ तो कैसे सँभाला मैंने 

बेशक तू न देख पाये के ,
कितनी है रँगत तुझसे मेरी दुनिया में 
तू ये देखना के मुश्किल वक़्त ने हमें जोड़ा कितना 
तेरे चेहरे की इक-इक शिकन पर ,
सुख-चैन अपना सारा लुटाया मैंने 

रिश्तों की खूबसूरती एक-दूसरे को बर्दाश्त करने में है , निभाने में है 
तू ये देख के तकरार में भी है क्या-क्या तुझसे चाहा मैंने 
तू न देख के कितना है रन्ज रिश्ते में अपने,
तू ये देख के क्या क्या है निभाया 


5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (19-09-2015) को  " माँ बाप बुढापे में  बोझ क्यों?"   (चर्चा अंक-2103)  पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. तू न देख के कितना है रन्ज रिश्ते में अपने,
    तू ये देख के क्या क्या है निभाया मैंने
    सारी दुनिया मिलती है किसे ,
    टुकड़ों में मिली धूप को कैसे गले लगाया मैंने
    … बहुत खूब!
    हर हाल में साथ निभाने वाले विरले होते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. निभाना और वो भी खुशी खुशी ये ही तो जिंदगी है

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं