मंगलवार, 22 जून 2010

जीते जी सर से

छन गया जीवन भी वक़्त की ही तरह
अपने हाथों से सँभाला न गया

मिट गए दुनिया की खातिर
मगर तन्हाई का निवाला न गया

स्याह रातों में दिल जला कर ही सही
राह से उम्मीद का उजाला न गया

अपनी दुनिया भी अजब सलमे-सितारों है जड़ी
जीते जी सर से दुशाला न गया

दुहाई दे दे कर कहते रहे
खुद के होने का हवाला न गया

13 टिप्‍पणियां:

  1. छन गया जीवन भी वक़्त की ही तरह
    अपने हाथों से सँभाला न गया

    मिट गए दुनिया की खातिर
    मगर तन्हाई का निवाला न गया
    Kya gazab likhtin hain aap!

    उत्तर देंहटाएं
  2. छन गया जीवन भी वक़्त की ही तरह
    अपने हाथों से सँभाला न गया....सुंदर ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपनी दुनिया भी अजब सलमे-सितारों है जड़ी
    जीते जी सर से दुशाला न गया ..

    बहुत गहरी लाइने हैं ... अच्छा लिखा है बहुत

    उत्तर देंहटाएं
  4. छन गया जीवन भी वक़्त की ही तरह
    अपने हाथों से सँभाला न गया ।
    बहुत ही सच्ची और प्रभावी रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. स्याह रातों में दिल जला कर ही सही
    राह से उम्मीद का उजाला न गया
    bahut hi sundar bhav hai .

    उत्तर देंहटाएं
  6. aaj apke sare blogs padhe...aur ye nishkarsh nikala ki aap bahut jinda dil aur positive attitude wali hain. aapke sare lekhan bahut acchhe lage.aur bahut postive drishtikon dete hain bahut acchha laga unhe padh kar.

    lekin is post me aapki negative feelings kyu aa rahi hain...


    मिट गए दुनिया की खातिर
    मगर तन्हाई का निवाला न गया

    aap bahut acchha likhti hain.
    apke lekhan ne mujhe aapko follow karne par mazboor kar diya (ha.ha.ha.)

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके ब्‍लाग पर आकर अच्‍छा लगा। इसलिए कि आप सहजता से बात कह रही हैं। उसमें कोई लाग लपेट नहीं है। शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. राह से उम्मीद का उजाला न गया..
    a ray of hope keeps us going..

    उत्तर देंहटाएं
  9. स्याह रातों में दिल जला कर ही सही
    राह से उम्मीद का उजाला न गया

    बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही अच्छा लिखा है....भाषा थोड़ी जटिल लगी...शायद मुझे....

    उत्तर देंहटाएं
  11. परिहार जी ,

    बहुत बहुत धन्यवाद , भाषा की जगह शायद भाव जटिल लगे हों , अगर कहीं कुछ दुविधा हो तो मैं उसे साफ़ कर सकती हूँ ,क्योंकि मैंने जब भी और जितना भी लिखा है अपने दिमाग में एक साफ़ तस्वीर रखते हुए लिखा है , तो आप पूछ सकते हैं , स्वागत है ।
    शारदा अरोरा

    उत्तर देंहटाएं
  12. You have a very good blog that the main thing a lot of interesting and beautiful! hope u go for this website to increase visitor.

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं