गुरुवार, 4 नवंबर 2010

मनों अँधेरा खदेड़ते नन्हें से चिराग

चरागों से सीखें जलने का सबक़
दिलों के बुझने का भी तो सबब जानें

ये जल तो लेते हैं एक दूसरे से
अन्धेरा अपनी तली का न पहचानें

परवाह करते हैं सिर्फ अपनी ही नमी की
दूसरा चुक रहा है ये हैं अन्जाने

चरागे-दिल से रौशन होती दुनिया
स्याह रातों का खुदा ही जाने

कितनी आँखों में बुझ बुझ जला है जो
वो आरती का दिया दुनिया माने

मनों अँधेरा खदेड़ते नन्हें से चिराग
दिवाली की रात पूनम सी इतराती जानें

22 टिप्‍पणियां:

  1. मनों अँधेरा खदेड़ते नन्हें से चिराग

    दिवाली की रात पूनम सी इतराती जानें " सुन्दर ग़ज़ल.. आपको एवं आपके परिवार को दीपावली की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी कविता
    आपको सपरिवार दिपोत्सव की ढेरों शुभकामनाएँ
    मेरी पहली लघु कहानी पढ़ने के लिये आप सरोवर पर सादर आमंत्रित हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद खूबसूरत रचना।
    दीप पर्व की हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी पंक्तियाँ...
    आपको और आपके परिवार को दिवाली की शुभकामनाएं..
    मेरे ब्लॉग पर इस बार संगीता जी की रचना..
    सुनहरी यादें :-३ ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. शारदा जी,

    बहुत सुन्दर रचना इस पावन पर्व पर....बहुत खूब....... एक बात ये पंक्ति शायद गलती से दो बार आ गयी हैं -

    "परवाह करते हैं अपनी ही नमी की
    दूसरा चुक रहा है ये हैं अन्जाने"

    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. चरागे-दिल से रौशन होती दुनिया
    स्याह रातों का खुदा ही जाने
    कितनी आँखों में बुझ बुझ जला है जो
    वो आरती का दिया दुनिया माने
    मनों अँधेरा खदेड़ते नन्हें से चिराग
    दिवाली की रात पूनम सी इतराती जानें

    बहुत अच्छा लिखा है...बधाई
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. bhn shardaa ji dipk ki vythaa or chiraagon ki roshni ki taaqt bhut khub andaaz men pesh ki he dipaavli mubark ho. akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  8. दीपावली के इस पावन पर्व पर आप सभी को सहृदय ढेर सारी शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर रचना हैं!
    --

    प्रेम से करना "गजानन-लक्ष्मी" आराधना।
    आज होनी चाहिए "माँ शारदे" की साधना।।

    अपने मन में इक दिया नन्हा जलाना ज्ञान का।
    उर से सारा तम हटाना, आज सब अज्ञान का।।

    आप खुशियों से धरा को जगमगाएँ!
    दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस पावन पर्व पर बेहद सुंदर रचना साझा की आपने....
    दिवाली की शुभकामनायें आपको भी

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर सन्देश। बधाई। आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ..

    दीपावली की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  13. आज आपसे सहमत होने के सिवा कोई विकल्प नहीं है मेरे पास ,सुन्दर अभिव्यक्ति !




    [ आपकी एक पिछली कविता पर मेल देखने में विलम्ब हुआ इसलिए प्रतिक्रिया नहीं दे पाया खेद सहित ! आपको दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं ]

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्रदूषण मुक्त दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  15. चिरागों से चिरागों में रोशनी भर दो,
    हरेक के जीवन में हंसी-ख़ुशी भर दो।
    अबके दीवाली पर हो रौशन जहां सारा
    प्रेम-सद्भाव से सबकी ज़िन्दगी भर दो॥
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!
    सादर,
    मनोज कुमार

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस ज्योति पर्व का उजास
    जगमगाता रहे आप में जीवन भर
    दीपमालिका की अनगिन पांती
    आलोकित करे पथ आपका पल पल
    मंगलमय कल्याणकारी हो आगामी वर्ष
    सुख समृद्धि शांति उल्लास की
    आशीष वृष्टि करे आप पर, आपके प्रियजनों पर

    आपको सपरिवार दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  17. मनों अँधेरा खदेड़ते नन्हें से चिराग
    sundar!!!
    deep ki mahima apaar hai!
    deep parv ki shubhkamnayen!

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की हार्दिक, सादर बधाइयां.

    उत्तर देंहटाएं
  19. शब्द और भाव दोनों अप्रतिम...वाह...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  20. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  21. परवाह करते हैं सिर्फ अपनी ही नमी की
    दूसरा चुक रहा है ये हैं अन्जाने ...

    इन बेचारों का काम तो जलना है .. इनकी किस्मत में भी जलना है ... इनके बस में कुछ नहीं है बस जलने के सिवा ...

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं