गुरुवार, 9 दिसंबर 2010

सोच के दीप जला कर देखो


दूर गगन में जा कर देखो

सोच के दीप जला कर देखो


चन्दा तो उतना ही हँसी है

जितने पँख लगा कर देखो


उडती पतंगें मौजों सी ही

गीत सुहाने गा कर देखो


जीवन आनी जानी शय है

कोई तो अलख जगा कर देखो


रुत बदले , मिजाज भी बदले

वक्त से ताल मिला कर देखो


मरघट सी सूनी ख़ामोशी

क़ैद से बाहर कर देखो


बच्चे बूढ़े जवाँ हो जाते

आस का फूल खिला कर देखो


घर भर को रौशन कर देता

एक दिया ही जला कर देखो

33 टिप्‍पणियां:

  1. शारदा जी,

    छोटी बहर की ग़ज़ल.....बहुत खूब |

    उत्तर देंहटाएं
  2. चन्दा तो उतना ही हँसी है

    जितने पँख लगा कर देखो

    वाह ...बहुत खूब ....!!



    मरघट सी सूनी ख़ामोशी

    क़ैद से बाहर आ कर देखो



    कोई पिंजरा खोले तो सही .....

    बहुत अच्छी अभिव्यक्ति .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. शारदा जी, बहुत खूब ...

    घर भर को रौशन कर देता
    एक दिया ही जला कर देखो

    क्या बात है !

    ज़रा मेरे ब्लॉग पर भी आकर देखिएगा ... इसी बहर पे ग़ज़ल प्रस्तुत है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. घर भर को रौशन कर देता

    एक दिया ही जला कर देखो

    bahut khub sharda jee....

    उत्तर देंहटाएं
  5. मरघट सी सूनी ख़ामोशी

    क़ैद से बाहर आ कर देखो

    क्या बात है शारदा जी ,बहुत ख़ूब
    उम्दा ग़ज़ल पेश की है आप ने
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. रुत बदले , मिजाज भी बदले

    वक्त से ताल मिला कर देखो

    मरघट सी सूनी ख़ामोशी

    क़ैद से बाहर आ कर देखो

    वाह वाह जितनी तारीफ़ की जाये उतनी कम है ……………आशा का संचार करती गज़ल बहुत ही सुन्दर है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. जीवन आनी जानी शय है
    कोई तो अलख जगा कर देखो

    बेहतरीन रचना...बढ़ी स्वीकारें...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  8. बच्चे बूढ़े जवाँ हो जाते

    आस का फूल खिला कर देखो


    घर भर को रौशन कर देता

    एक दिया ही जला कर देखो

    बहुत बेहतरीन !

    उत्तर देंहटाएं
  9. जीवन आनी जानी शय है
    कोई तो अलख जगाकर देखो

    वाह! शानदार और लाजबाव गजल । बहुत बहुत आभार जी!

    मेरे ब्लोग पर भी आपका स्वागत है

    एक चर्तुभुज बनाके छोड़ा मुझे..........कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  10. जीवन आनी जानी शय है
    कोई तो अलख जगाकर देखो

    वाह! शानदार और लाजबाव गजल । बहुत बहुत आभार जी!

    मेरे ब्लोग पर भी आपका स्वागत है

    एक चर्तुभुज बनाके छोड़ा मुझे..........कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  11. घर भर को रौशन कर देता
    एक दिया ही जला कर देखो
    कितना स्वच्छ और सुन्दर सन्देश है इस खूबसूरत गज़ल में

    उत्तर देंहटाएं
  12. घर भर को रौशन कर देता
    एक दिया ही जला कर देखो

    प्रेरणादायी पंक्तियां।
    बहुत बेहतरीन ग़ज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  13. चन्दा तो उतना ही हँसी है
    जितने पँख लगा कर देखो
    बहुत अच्छा शेर है शारदा जी...

    घर भर को रौशन कर देता
    एक दिया ही जला कर देखो
    सच कहा,
    कम से कम इतना तो करना ही चाहिए अंधेरा मिटाने के लिए.
    बहुत अच्छी ग़ज़ल है...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  14. चन्दा तो उतना ही हँसी है

    जितने पँख लगा कर देखो
    अजी हम तो पंख लगाये ही बैठे हैं. उम्दा ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत अच्छी अभिव्यक्ति .....!!
    my old blog sarokar is lost.. please visit my new blog.. follow and comment please...
    http://apnesarokaar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  16. दूर गगन में जा कर देखो
    सोच के दीप जला कर देखो

    achhii gzl ke
    achhee sher....

    mubarakbaad svikaareiN .

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी यह रचना कल के ( 11-12-2010 ) चर्चा मंच पर है .. कृपया अपनी अमूल्य राय से अवगत कराएँ ...

    http://charchamanch.uchcharan.com
    .

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत अच्छी भावना है . इसी तरह की भावना वाली मेरी एक कविता आप से शेयर करता हूँ -

    जिंदगी के ग़म भुला कर देखिये

    दर्द को साथी बना कर देखिये

    ये जहाँ संगीतमय लगने लगेगा

    कोई नग़मा गुनगुना कर देखिये

    उत्तर देंहटाएं
  19. bahut hi behatreen sakaratmak socho se purn ek prabhavshali avam sshakt prastuti.
    घर भर को रौशन कर देता

    एक दिया ही जला कर देखो
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  20. bahut hi behatreen sakaratmak socho se purn ek prabhavshali avam sshakt prastuti.
    घर भर को रौशन कर देता

    एक दिया ही जला कर देखो
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही अच्छा.....मेरा ब्लागः-"काव्य-कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ ....आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे...धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  22. घर भर को रौशन कर देता
    एक दिया ही जला कर देखो
    बेहतरीन.....

    उत्तर देंहटाएं
  23. घर भर को रौशन कर देता
    एक दिया ही जला कर देखो
    बहुत सुंदर ....

    उत्तर देंहटाएं
  24. रुत बदले , मिजाज भी बदले
    वक्त से ताल मिला कर देखो

    बहुत खूब .. सभी शेर कमाल के हैं इस गज़ाल के ...सच से रूब्रो कराते ...

    उत्तर देंहटाएं
  25. पांच लाख से भी जियादा लोग फायदा उठा चुके हैं
    प्यारे मालिक के ये दो नाम हैं जो कोई भी इनको सच्चे दिल से 100 बार पढेगा।
    मालिक उसको हर परेशानी से छुटकारा देगा और अपना सच्चा रास्ता
    दिखा कर रहेगा। वो दो नाम यह हैं।
    या हादी
    (ऐ सच्चा रास्ता दिखाने वाले)

    या रहीम
    (ऐ हर परेशानी में दया करने वाले)

    आइये हमारे ब्लॉग पर और पढ़िए एक छोटी सी पुस्तक
    {आप की अमानत आपकी सेवा में}
    इस पुस्तक को पढ़ कर
    पांच लाख से भी जियादा लोग
    फायदा उठा चुके हैं ब्लॉग का पता है aapkiamanat.blogspotcom

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत बेहतरीन ...हमारे ब्लोग पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं