सोमवार, 19 नवंबर 2012

दूर जहाँ तक खड़ी है रात


जल रे दिए तू , लम्बी ज्योति 
पहुँच वहाँ , दूर जहाँ तक खड़ी है रात 

मिट्टी की मैं , तेल है तेरा 
सुख दुख सारा , खेल है तेरा 
मेरे दिल की क्या है औकात 


जल रे दिए तू , लम्बी ज्योति 
पहुँच वहाँ , दूर जहाँ तक खड़ी है रात 

जग चिड़िया का रैन बसेरा 
जोगी वाला अपना फेरा 
कैसे दूँ हालात को मात 


जल रे दिए तू , लम्बी ज्योति 
पहुँच वहाँ , दूर जहाँ तक खड़ी है रात 

हाथ पकड़ कर चलूँ मैं तेरा 
धो डाले जो पथ का अँधेरा 
सुबह सी है तेरी बात 


जल रे दिए तू , लम्बी ज्योति 
पहुँच वहाँ , दूर जहाँ तक खड़ी है रात 


8 टिप्‍पणियां:

  1. मिट्टी की मैं , तेल है तेरा
    सुख दुख सारा , खेल है तेरा
    मेरे दिल की क्या है औकात
    Behad sundar!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जल रे दिए तू , लम्बी ज्योति
    पहुँच वहाँ , दूर जहाँ तक खड़ी है रात
    बहुत ही सुन्दर और बेहतरीन रचना..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह...
    हाथ पकड़ कर चलूँ मैं तेरा
    धो डाले जो पथ का अँधेरा
    सुबह सी है तेरी बात

    बहुत खूबसूरत...
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह क्या बात है बेहद उम्दा प्रस्तुति
    अरुन शर्मा - www.arunsblog.in

    उत्तर देंहटाएं
  5. हमेशा की तरह लाजवाब रचना...बधाई

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रशंसनीय। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut khoob kaha hein...
    सुबह सी है तेरी बात .....

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं