बुधवार, 5 अगस्त 2009

रँगीन रेशमी राखी

यूँ तो डोर है रेशम सी
कच्ची नहीं , बन्धन सी
मजबूती इतनी है दुलार की
भाई बहन के प्यार की

कुदरत का नूर बरसाती
इस रास्ते भी , भाई का प्यार सी
एक आँगन में पले
जोड़ती अनूठे सँसार सी

रँगीन रेशमी डोरी
दुआओं का बोलता भण्डार सी
और कलाई पर सजी
रक्षा का वचन उपहार सी


9 टिप्‍पणियां:

  1. शारदा जी,बहुत सुन्दर रचना है बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. रक्षाबंधन पर हार्दिक शुभकामना.

    बहुत सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर!!

    रक्षा बंधन के पावन पर्व की शुभकामनाऐं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut pyaari rachnaa
    bilkul bahana si bholi aur masoom rachnaa
    is rachnaa ko rakshaabandhan ki badhaai !

    उत्तर देंहटाएं
  5. रक्षाबंधन पर हार्दिक शुभकामनाएँ!
    विश्व-भ्रातृत्व विजयी हो!

    उत्तर देंहटाएं
  6. रँगीन रेशमी डोरी
    दुआओं का बोलता भण्डार सी
    और कलाई पर सजी
    रक्षा का वचन उपहार सी
    बहुत सुन्दर।
    रक्षा बंधन की शुभकामनाऐँ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. रँगीन रेशमी डोरी
    दुआओं का बोलता भण्डार सी
    और कलाई पर सजी
    रक्षा का वचन उपहार सी
    बहुत सुन्दर शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  8. कलाई पर सजी
    रक्षा का वचन उपहार सी

    बहुत ही सुन्‍दर रचना बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्‍दर रचना..क्षमा करें कल नहीं पढ़ पाई

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं