रविवार, 30 अगस्त 2009

सुरुरों ने आ लिखा है

मैंने लिखा नहीं है
सुरुरों ने आ लिखा है

ये बात कह रही है
बरसों से दुनिया सारी
जुनूनों ने आ लिखा है

धड़कन ये कह रही है
उसकी जुबाँ नहीं है
बेजुबानों ने आ लिखा है

जन्मों से चल रहा है
जिसे देख के हैं चलते
उन्हीं रँगों ने आ लिखा है

अपनी खता नहीं है
तुम्हें पा के हम जो खिलते
कुसूरों ने आ लिखा है

मैंने लिखा नहीं है
सुरुरों ने आ लिखा है


15 टिप्‍पणियां:

  1. अपनी खता नहीं है
    तुम्हें पा के हम जो खिलते
    कुसूरों ने आ लिखा है


    bahut khoob........

    उत्तर देंहटाएं
  2. कमाल है शारदाजी.........
    बहुत ख़ूब
    अत्यन्त सौम्य अभिव्यक्ति...

    धड़कन ये कह रही है
    उसकी जुबाँ नहीं है
    बेजुबानों ने आ लिखा है

    बधाई हो आपको.........

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये बात कह रही है
    बरसों से दुनिया सारी
    जुनूनों ने आ लिखा है
    बहुत बहुत ही भाव पुर्ण लेखन ........और क्या कहे.....अतिसुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपनी खता नहीं है
    तुम्हें पा के हम जो खिलते
    कुसूरों ने आ लिखा है

    मैंने लिखा नहीं है
    सुरूरों ने आ लिखा है

    बहुत सुन्दर।
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपने अच्छा लिखा है. चूंकि आपने खुशफहमियों को प्राथमिकता दी है, इस लिए और कुछ नहीं कहूँगा. मेरे ब्लॉग पर आने कमेन्ट देने के लिए शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैंने लिखा नहीं है
    सुरुरों ने आ लिखा है

    -बहुत बेहतरीन लिख सुरुर आकर. वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहतरीन..बेजुबानों के लिये लिखने का ही सहारा होता है बस...और कितनी बाते कह कर भी नही कही जा पाती हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  8. शारदा जी
    आपकी यह कविता ही आपकी पतिनिधी shailee है
    बहुत डूब कर लिखा और जिया है आपने
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. धड़कन ये कह रही है
    उसकी जुबाँ नहीं है
    बेजुबानों ने आ लिखा है

    LAJAWAAB .......... KHOOBSOORAT GAZAL HAI .....

    उत्तर देंहटाएं
  10. धड़कन ये कह रही है
    उसकी जुबाँ नहीं है
    बेजुबानों ने आ लिखा है..khoobsurat kavita...

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं