शुक्रवार, 21 अगस्त 2009

ठण्डी हवा के झोंके

ठण्डी हवा के झोंके , छूकर हैं जब गुजरते
छूकर हैं उनको आये , वादों से जो मुकरते

खुशियों के ये इरादे , कैसे सनम पकड़ते
बहती हवा के मानिंद , दामन में न ठहरते

सिर चढ़ के जो बोले , देखो सुरूर चढ़ते
मीठी सी नीँद बन कर , दिल में हैं यूँ उतरते

ठहरा है काफिला भी , देखो इसे गुजरते
खुशबू है पीछा करती , दामन से जो उलझते

ठण्डी हवा के झोंके , छूकर हैं जब गुजरते
गहरी सी टीस बन कर , मौसम को यूँ निगलते


20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही अच्छी ठंडे झोंकों की तरह...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सिर चढ़ के जो बोले , देखो सुरूर चढ़ते
    मीठी सी नीँद बन कर , दिल में हैं यूँ उतरते
    बहुत खूब बधाई सुन्दर अभिव्यक्ति के लिये

    उत्तर देंहटाएं
  3. खुशियों के ये इरादे , कैसे सनम पकड़ते
    बहती हवा के मानिंद , दामन में न ठहरते

    -बढि़या है!

    उत्तर देंहटाएं
  4. ठहरा है काफिला भी , देखो इसे गुजरते
    खुशबू है पीछा करती , दामन से जो उलझते
    लाजवाब...बहुत खूब...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढिया जैसे ठंडी हवा का झोका छु के निकल गया। लाजवाब रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. मन को ठंडक देती ,शांति पहुंचाती अच्छी रचना ,बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी रचना है. ऐसे 'ठंडी हवा के झोंके' बार बार मिलते रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  8. "ठहरा है काफिला भी , देखो इसे गुजरते
    खुशबू है पीछा करती , दामन से जो उलझते"

    बेहतरीन काव्य-पंक्तियाँ । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज 29/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर (सुनीता शानू जी की प्रस्तुति में) पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut sundar ghazal likhi hai aapko pahli baar padh rahi hoon bahut achcha laga.

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं