मंगलवार, 29 सितंबर 2009

दिन है बड़ा मटमैला सा

अब न शाम-सहर
दिन है बड़ा मटमैला सा
उड़ गया चैन मेरे हाथों से
नीँद की ही तरह
अब न शाम- सहर

रातें जो न हों तारों भरी
हम जुगनू लेकर चल लेते
छल करता है सूरज जब-जब
छाया का टुकड़ा दे दे कर
दिन का है कहो , ये कौन पहर
अब न शाम- सहर

दिन कब होते सब एक से हैं
छाया भी यहाँ बेमानी सी लगे
अपना ही आप कहानी सी लगे
किस से मिल कर , ढाया ये कहर
अब न शाम- सहर

रोया था उस दिन आसमाँ भी
आया था जब वो साथ मेरे
पसीजा था तो मेरी ही तरह
बिखरा हुआ , आया था नजर
अब न शाम-सहर


11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बहुत धन्यवाद , शास्त्री जी , ये पोस्ट ब्लॉग वाणी पर पब्लिश भी नहीं हुई और टिप्पणियों की सेटिंग में भी कुछ हेर फेर किया नहीं है , तो कुछ समझ नहीं आ रहा | ऐसे में आपका ध्यान इस तरफ गया , शुक्रगुजार हूँ |

    उत्तर देंहटाएं
  2. रातें जो न हों तारों भरी
    हम जुगनू लेकर चल लेते
    छल करता है सूरज जब-जब
    छाया का टुकड़ा दे दे कर
    दिन का है कहो , ये कौन पहर
    अब न शाम- सहर
    ---------

    अहा!क्या खूबसूरत लिखा है!मन में उतर गयी..कितने कोमल भाव हैं! शारदा जी ..अद्भुत !

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक अनूठी कविता
    भावों से भरपूर
    विचारों से औतप्रोत
    आनंद आया पढ़कर

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक धारा प्रावाह कविता जिसमे भावो के समन्दर है तो शब्दो के प्रवाह.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. अब न शाम-सहर
    दिन है बड़ा मटमैला सा
    बेहतरीन प्रवाहमयी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. किसी बेहद ख़ास ने मुझे यह कविता
    पढने के लिए आपकी पोस्ट का लिंक दिया था !

    बहुत ही सुन्दर
    अंतर्मन को सहलाती हुयी लाजवाब रचना !

    अब ज्यादा तारीफ़ न करके
    सीधे फालोवर ही बन जाता हूँ !

    आपका आभार
    शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  7. अद्भुत नज़्म है ....इसे पढ़कर गुलज़ार साहब की एक नज़्म याद आ गयी .....

    ".दिन "-

    आज का दिन जब मेरे घर में फौत हुआ
    जिस्म की रंगत जगह जगह से फटी हुई थी
    सुर्ख खराशे रेंग रही थी ,बांहों पर !
    पलके झुलसी झुलसी सी ,ओर चेहरा धज्जी धज्जी था -
    हाथ में थे कुछ चीथड़े से अखबारों के
    लैब एक पे शिकस्ता थी आवाज थी बस !
    देख इन बारह घंटो में क्या हालत की है दुनिया ने !

    उत्तर देंहटाएं
  8. शारदा जी बहुत ही सुंदर कविता, आप का धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. रातें जो न हों तारों भरी
    हम जुगनू लेकर चल लेते
    छल करता है सूरज जब-जब
    छाया का टुकड़ा दे दे कर
    दिन का है कहो , ये कौन पहर
    बहुत बढ़िया...

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं