गुरुवार, 3 दिसंबर 2009

मैं वो बात नहीं छेड़ूँगी

मैं वो बात नहीं छेड़ूँगी , वो तेरा दिल दुखायेगी
मेरा क्या है , वो तेरे जख्मों को छेड़ जायेगी

बाद मुद्दत के सही , पुरवाई तो चली
थाम लम्हों को , किस्मत तो सँवर जायेगी

मोड़ तो आते हैं , सफर में भी कई
रुक गए तो , तन्हाई भी ठहर जायेगी

भूलता कोई नहीं , रहे अन्जान बेशक
बातों-बातों में , थोड़ी तबियत तो बहल जायेगी

10 टिप्‍पणियां:

  1. मोड़ तो आते हैं , सफर में भी कई
    रुक गए तो , तन्हाई भी ठहर जायेगी

    भूलता कोई नहीं , रहे अन्जान बेशक
    बातों-बातों में , थोड़ी तबियत तो बहल जायेगी

    Ati Sundar !

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं वो बात नहीं छेड़ूँगी , वो तेरा दिल दुखायेगी
    मेरा क्या है , वो तेरे जख्मों को छेड़ जायेगी...

    बहुत अछा शेर है ......... ऐसी बात क्या करनी जो किसी का दिल दुखाए ......
    पूरी ग़ज़ल लाजवाब आयी ......

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुझे तो ये शेर सबसे ज्यादा पसंद आया है....
    बाद मुद्दत के सही पुरवाई तो चली
    थाम लम्हों को किस्मत तो संवर जायेगी
    शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये पंक्तियाँ बड़ी सुन्दर बन गयी है ...
    '' मोड़ तो आते हैं , सफर में भी कई
    रुक गए तो , तन्हाई भी ठहर जायेगी ''
    सहज अउर प्रभावमय ...
    ............. आभार .................

    उत्तर देंहटाएं
  5. मोड़ तो आते हैं , सफर में भी कई
    रुक गए तो , तन्हाई भी ठहर जायेगी


    bahut khoob, badhaai.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मोड़ तो आते हैं , सफर में भी कई
    रुक गए तो , तन्हाई भी ठहर जायेगी
    बहुत सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  7. मैं वो बात नहीं छेड़ूँगी , वो तेरा दिल दुखायेगी
    मेरा क्या है , वो तेरे जख्मों को छेड़ जायेगी...
    saral sabdon mein sundar bhavon ko piroya hai aapne, badhai

    उत्तर देंहटाएं
  8. भूलता कोई नहीं , रहे अन्जान बेशक
    बातों-बातों में , थोड़ी तबियत तो बहल जायेगी
    ... बहुत खूब !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही अच्‍छी कविता लिखी है
    आपने काबिलेतारीफ बेहतरीन


    SANJAY KUMAR
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं