मंगलवार, 6 दिसंबर 2011

ख़म का पता

जाने कब सूरज मेरे दरवाजे पे उगेगा
हसरतों की देहरी पर कोई फूल खिलेगा

क्यों नाराज होऊँ मैं इन्तज़ार की शब से
के अहले-सफ़र भी मुश्किल से कटेगा

स्याह अन्धेरे में किधर चलना है
सिम्तों का पता भी मुश्किल से मिलेगा

चलने को कोई बात भी चाहिए के
रौशनी को चरागे-दिल ही जलेगा

दम कितना है ख़्वाबों में क़दमों में
इस ख़म का पता भी सुबह ही चलेगा

8 टिप्‍पणियां:

  1. स्याह अन्धेरे में किधर चलना है
    सिम्तों का पता भी मुश्किल से मिलेगा
    वाह...बहुत उम्दा...

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्यों नाराज होऊँ मैं इन्तज़ार की शब से
    के अहले-सफ़र भी मुश्किल से कटेगा

    वाह बेहतरीन गज़ल. सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  3. हर मजहब हमें इंसानियत सिखाना चाहता है यह तो सच है लेकिन इन्सान इसे तोड़-मदोड़कर पेश करता है. जैसे गीता को कुछ लोग इस तरह पेश करते हैं जैसे वह युद्ध का समर्थन करती हो और कुरान आतंकवाद का.
    मैं तो उस सुद्ध ज्ञान की बात कर रहा हूँ जो इन्म्र छिपा है...बिना किसी इंसानी लग लपेट के.

    ब्लॉग पर आने के लिए बहूत शुक्रिया....आते रहिये यही गुजारिश.

    उत्तर देंहटाएं
  4. और इसी के साथ मैं आपका सौंवा समर्थक भी बन गया...सैकड़े की बधाई हो आपको.

    उत्तर देंहटाएं
  5. स्याह अन्धेरे में किधर चलना है
    सिम्तों का पता भी मुश्किल से मिलेगा

    चलने को कोई बात भी चाहिए के
    रौशनी को चरागे-दिल ही जलेगा
    Gazab ke alfaaz hain!

    उत्तर देंहटाएं
  6. I would like to say thanks for the efforts you have made compiling this article. You have been an inspiration for me. I’ve forwarded this to a friend of mine.

    From Great talent

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं