सोमवार, 20 मई 2013

हम न भूल पायेंगे

आज के दौर में एक मित्रता और सदभावना भरा दिल ही ढूँढना मुश्किल है ...और जब कभी ऐसा कोई मिल जाता है तो मन कुछ इस तरह गुनगुना उठता है ...

हम न भूल पायेंगे , ये जो तुम चले हो हमारे साथ 
दुनियावी बातों में , रूहानी सी हो जैसे कोई मुलाकात 

वक्त के सितम भूल गये सारे , आँखें मींचीं तो पाया 
के बिछी है , क़दमों तले नर्म रेशम सी करामात 

अजब सी बात है , कभी तो ढूँढे से नहीं मिलती ख़ुशी 
सहरा में चलते हुए , कभी हो जाती है सोंधी सी बरसात 

एक वो लोग उतरे हैं नज्मों में , जो धूप में सुखाते हैं 
दूसरे वो जो , घनी छाँव से दिल को भाते हैं हज़रात 

नज़राने की तरह , रख लो कोई निशानी मेरी भी 
नज़र आऊँगी कभी , मैं भी तुम्हें गाहे-बगाहे यूँ ही बे-बात 

23 टिप्‍पणियां:

  1. मुझे आप को सुचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि
    आप की ये रचना 24-05-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल
    पर लिंक की जा रही है। सूचनार्थ।
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाना।

    मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुख के हर दिन, हर पल, ख़ुशी के नहीं होते
    महकते मखमली गुलाब भी निष्कंटक नहीं होते।
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest postअनुभूति : विविधा
    latest post वटवृक्ष

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर

    1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
      आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
      आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (08-04-2013) के "http://charchamanch.blogspot.in/2013/04/1224.html"> पर भी होगी! आपके अनमोल विचार दीजिये , मंच पर आपकी प्रतीक्षा है .
      सूचनार्थ...सादर!

      हटाएं
    2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
      आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (22-05-2013) के कितनी कटुता लिखे .......हर तरफ बबाल ही बबाल --- बुधवारीय चर्चा -1252 पर भी होगी!
      सादर...!

      हटाएं
  3. अजब सी बात है , कभी तो ढूँढे से नहीं मिलती ख़ुशी
    सहरा में चलते हुए , कभी हो जाती है सोंधी सी बरसात

    ....सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी यह रचना कल मंगलवार (21 -05-2013) को ब्लॉग प्रसारण अंक - २ पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन भारत के इस निर्माण मे हक़ है किसका - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. दो ही घंटों में इतने सारे कमेंट्स ..आप सबका बहुत बहुत शुक्रिया ..हाँ ख़ुशी तो होती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सेहरा में ज्यूँ सौंधी सी बरसात..वाह! कितना खूबसूरत ख्याल है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाँ इसे सिर्फ कवि मन समझ और महसूस कर सकता है ...शुक्रिया अल्पना जी ...

      हटाएं
  8. बहुत सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति . .मन को छू गयी .आभार . बाबूजी शुभ स्वप्न किसी से कहियो मत ...[..एक लघु कथा ] साथ ही जानिए संपत्ति के अधिकार का इतिहास संपत्ति का अधिकार -3महिलाओं के लिए अनोखी शुरुआत आज ही जुड़ेंWOMAN ABOUT MAN

    उत्तर देंहटाएं
  9. वक्त के सितम भूल गये सारे , आँखें मींचीं तो पाया
    के बिछी है , क़दमों तले नर्म रेशम सी करामात ...

    दोस्त भीनी सी फुहार ले के आते हैं ... मरन एहसास ले के आते हैं ... दुख दर्द सारे हवा के साथ ले जाते हैं ...
    खूबसूरत गज़ल ...

    उत्तर देंहटाएं

  10. नज़राने की तरह , रख लो कोई निशानी मेरी भी
    नज़र आऊँगी कभी , मैं भी तुम्हें गाहे-बगाहे यूँ ही बे-बात
    Wah! Kya baat hai!

    उत्तर देंहटाएं
  11. अजब सी बात है , कभी तो ढूँढे से नहीं मिलती ख़ुशी
    सहरा में चलते हुए , कभी हो जाती है सोंधी सी बरसात....एकदम सही बात...बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  12. एक वो लोग उतरे हैं नज्मों में , जो धूप में सुखाते हैं
    दूसरे वो जो , घनी छाँव से दिल को भाते हैं हज़रात

    बहुत सुन्दर वे लोग जो आपकी रचना में उतर आये हैं

    उत्तर देंहटाएं
  13. अजब सी बात है , कभी तो ढूँढे से नहीं मिलती ख़ुशी
    सहरा में चलते हुए , कभी हो जाती है सोंधी सी बरसात .
    सुन्दर भावों के साथ रची सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं