बुधवार, 24 दिसंबर 2014

तुम्हारी आँखों में

तुम्हारी आँखों में हौसला चमकता बहुत है 
तुम्हारे आस-पास समाँ महकता बहुत है 

तुम्हें छू कर जो आतीं हैं हवाएँ 
इनकी नमी से अपनापन टपकता बहुत है 

तुम्हारे आ जाने से आ जाती है रौनक 
यादों की क्यारी में तुम्हारा चेहरा दमकता बहुत है 

तुम्हारी पलकों पर रक्खे हैं जो ख़्वाब 
कोई इनमें ही आ-आ के बहकता बहुत है 

तुम्हें देखूँ ठिठक जातीं हैं निगाहें 
ये मन किसी बच्चे सा चहकता बहुत है 

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 25-12-2014 को चर्चा मंच पर चर्चा - 1838 में दिया गया है
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. तुम्हें देखूँ ठिठक जातीं हैं निगाहें
    ये मन किसी बच्चे सा चहकता बहुत है
    ..बहुत खूब!
    प्यारभरी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर रचना
    ये दिल भी क्या चीज है बच्चो की तरह रोता है
    सायद किसी की याद में खामोश हो के सोता है

    उत्तर देंहटाएं
  4. तुम्हारी पलकों पर रक्खे हैं जो ख़्वाब
    कोई इनमें ही आ-आ के बहकता बहुत है

    bahut khuub!!

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं