शुक्रवार, 13 अगस्त 2010

कदम जमा जमा कर

रेत पर चल रहे हैं कदम जमा जमा कर
न जाने कौन सी लहर हो तूफाँ से हाथ मिलाये हुए

किसी को पँख मिले हैं परवाज़ के लिये
किन्हीं क़दमों को सरकने की गर्मी भी न नसीब हुए

कोई चढ़ रहा है कामयाबी की सीढ़ियाँ
कोई दामन में है बिखरे अहसास सम्भाले हुए

कहीं जमीन कम , है कहीं आसमान कम
इसी हेरफेर में जाने कितने हैं धराशाई हुए

हवाएँ हैं , चिराग है , है नमी कम
सूखे में हौसले भी हैं भरमाये हुए

जाने वो कौन सी सहर है या लहर
बीच भँवर में कश्ती को आजमाये हुए








15 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ..बढ़िया गज़ल...विसंगतियाँ यूँ ही बनी रहती हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहद उम्दा भावों से सजी शानदार गज़ल्।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जाने वो कौन सी सहर है या लहर
    बीच भँवर में कश्ती को आजमाये हुए
    Ye to zindagee ka nichod bata diya aapne!

    उत्तर देंहटाएं
  4. जाने वो कौन सी सहर है या लहर
    बीच भँवर में कश्ती को आजमाये हुए

    बहुत ही भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  5. किसी को पँख मिले हैं परवाज़ के लिये
    किन्हीं क़दमों को सरकने की गर्मी भी न नसीब हुए...

    bahut sundar

    उत्तर देंहटाएं
  6. shaardaa aanti aadaab saadr nmn, aapne pridhy dene kaa andaaz bhut khub rchaa he deg ke aek chanvl se hi aapki saahityik heli kaa andaazaa hota he ab ret pr paanv jmane ki bat ka jo flsfaa he voh bhi bhut khub he. akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  7. *********--,_
    ********['****'*********\*******`''|
    *********|*********,]
    **********`._******].
    ************|***************__/*******-'*********,'**********,'
    *******_/'**********\*********************,....__
    **|--''**************'-;__********|\*****_/******.,'
    ***\**********************`--.__,'_*'----*****,-'
    ***`\*****************************\`-'\__****,|
    ,--;_/*******HAPPY INDEPENDENCE*_/*****.|*,/
    \__************** DAY **********'|****_/**_/*
    **._/**_-,*************************_|***
    **\___/*_/************************,_/
    *******|**********************_/
    *******|********************,/
    *******\********************/
    ********|**************/.-'
    *********\***********_/
    **********|*********/
    ***********|********|
    ******.****|********|
    ******;*****\*******/
    ******'******|*****|
    *************\****_|
    **************\_,/

    स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ !

    बहुत ही सुन्दर और शानदार ग़ज़ल लिखा है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  8. कहीं जमीन कम , है कहीं आसमान कम
    इसी हेरफेर में जाने कितने हैं धराशाई हुए
    बहुत ही उमदा गज़ल,स्वतन्त्रता दिवस की बधाई आपको .

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं