शुक्रवार, 6 मई 2011

रुके रुके से दिन



रुके रुके से दिन परछाइयाँ चलती हुईं
धू-धू कर जल उठीं अमराइयाँ कितनी

स्कैच बना कर खुदा रँग भरना भूल गया
काले सफ़ेद वर्कों में रुसवाइयाँ कितनी

बहला रहे हैं खुद को आँकड़ों के खेल में
जिन्दगी की दौड़ में गहराइयाँ कितनी

सँकरे रास्ते भी देते हैं पता मंजिल का
चल चल कर बनती हैं पगडंडियाँ कितनी

अपनों के बिखर जाने से डर लगता है
भले ही दूर हों मगर हैं नजदीकियाँ कितनी

तगाफुल होते ही रहते हैं राहे इश्क में
बचे साबुत तो देखेंगे के हैं बरबादियाँ कितनी

साजिश में दुनिया की खुदा भी था शामिल
शिकायत कैसे करें , हैं उसकी मेहरबानियाँ कितनी

15 टिप्‍पणियां:

  1. सँकरे रास्ते भी देते हैं पता मंजिल का

    चल चल कर बनती हैं, पगडंडियाँ कितनी

    .................खूबसूरत शेर ....सभी शेर उम्दा

    उत्तर देंहटाएं
  2. साजिश में दुनिया की खुदा भी था शामिल
    शिकायत कैसे करें , हैं उसकी मेहरबानियाँ कितनी
    bahut khoob !

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्कैच बना कर खुदा रँग भरना भूल गया
    काले सफ़ेद वर्कों में रुसवाइयाँ कितनी
    साजिश में दुनिया की खुदा भी था शामिल
    शिकायत कैसे करें , हैं उसकी मेहरबानियाँ कितनी

    शानदार गज़ल्…………हर शेर ज़िन्दगी की सच्चाइयां बयां कर रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहला रहे हैं खुद को आँकड़ों के खेल में
    जिन्दगी की दौड़ में गहराइयाँ कितनी

    sabhi sher ek se badhkar ek hain... badhaai

    Aakarshan

    उत्तर देंहटाएं
  5. तगाफुल होते ही रहते हैं राहे इश्क में
    बचे साबुत तो देखेंगे के हैं बरबादियाँ कितनी ?
    क्या बात है शारदा जी यह शेर तो वास्तव में शेर है बहुत गहरी बात कह दी , मबारक हो

    उत्तर देंहटाएं
  6. अपनों के बिखर जाने से डर लगता है
    भले ही दूर हों मगर हैं नजदीकियाँ कितनी
    बेहतरीन ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहला रहे हैं खुद को आँकड़ों के खेल में
    जिन्दगी की दौड़ में गहराइयाँ कितनी
    wah...bahut khoob...!

    उत्तर देंहटाएं
  8. तगाफुल होते ही रहते हैं राहे इश्क में
    बचे साबुत तो देखेंगे के हैं बरबादियाँ कितनी

    हर शेर दाद के काबिल।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सँकरे रास्ते भी देते हैं पता मंजिल का
    चल चल कर बनती हैं पगडंडियाँ कितनी

    अपनों के बिखर जाने से डर लगता है
    भले ही दूर हों मगर हैं नजदीकियाँ कितनी
    Behad khoobsoorat panktiyan!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूब पढ़ी. आपने..एक बढ़िया ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर गजल है,

    तगाफुल होते ही रहते हैं राहे इश्क में
    बचे साबुत तो देखेंगे के हैं बरबादियाँ कितनी
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. साजिश में दुनिया की खुदा भी था शामिल
    शिकायत कैसे करें , हैं उसकी मेहरबानियाँ कितनी
    gazab ke bhaw.....bahut achcha laga.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहला रहे हैं खुद को आँकड़ों के खेल में
    जिन्दगी की दौड़ में गहराइयाँ कितनी

    जिंदगी का सच रखा है आपने सामने ...बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं