शुक्रवार, 20 मई 2011

धूप छाया भी सुलगते ही मिले

एक दिन हिलने लगी नींव
इमारत के बुर्ज हिलते मिले


न गुजरें दिन न गुजरें रातें
हाथों से उम्र फिसलती मिले

या खुदा , आदमी का ऐसा भी मुकद्दर न लिख
गुजर जाए वक्त और आदमी खड़ा ही मिले


जीने के बहाने थोड़े मिले
मरने के बहाने बहुतेरे मिले


प्यास उम्रों से लगी है
धूप छाया भी सुलगते ही मिले


कुँए-तालाब , पेड़-पौधे
मौसम की राह तकते ही मिले


भला बताओ वो दोस्त कैसे हुए
फासले रख के जो दोस्तों से मिले


छिपी हैं वेदनाएँ ही संवेदनाओं में
इसीलिए हर कोई अक्सर हिलता ही मिले

24 टिप्‍पणियां:

  1. वाह, क्या बात है.

    भला बताओ वो दोस्त कैसे हुए
    फासले रख के जो दोस्तों से मिले

    उत्तर देंहटाएं
  2. छिपी हैं वेदनाएँ ही संवेदनाओं में
    इसीलिए हर कोई अक्सर हिलता ही मिले

    bahut achchhi panktiyan.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्यास उम्रों से लगी है
    धूप छाया भी सुलगते ही मिले

    गज़ब की भावाव्यक्ति है………गज़ल का हर शेर और शेर का हर शब्द ही जैसे सुलग रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. न गुजरें दिन न गुजरें रातें
    हाथों से उम्र फिसलती मिले


    या खुदा , आदमी का ऐसा भी मुकद्दर न लिख
    गुजर जाए वक्त और आदमी खड़ा ही मिले
    Kitni gahrayee aur sachhayee hai in baaton me!

    उत्तर देंहटाएं
  5. या खुदा , आदमी का ऐसा भी मुकद्दर न लिख
    गुजर जाए वक्त और आदमी खड़ा ही मिले

    ....बहुत सटीक अभिव्यक्ति..हरेक पंक्ति अंतस को छू जाती है..

    उत्तर देंहटाएं
  6. कुँए-तालाब , पेड़-पौधे
    मौसम की राह तकते ही मिले

    भला बताओ वो दोस्त कैसे हुए
    फासले रख के जो दोस्तों से मिले

    छिपी हैं वेदनाएँ ही संवेदनाओं में
    इसीलिए हर कोई अक्सर हिलता ही मिले
    bahut khoob.
    aapko padna shuru se hee bahut accha lagta hai....
    Aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  7. या खुदा , आदमी का ऐसा भी मुकद्दर न लिख
    गुजर जाए वक्त और आदमी खड़ा ही मिले


    भला बताओ वो दोस्त कैसे हुए
    फासले रख के जो दोस्तों से मिले


    बहुत खूब ...सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. शारदा जी इस बेहद संवेदनशील रचना के लिए हार्दिक बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  9. या खुदा , आदमी का ऐसा भी मुकद्दर न लिख
    गुजर जाए वक्त और आदमी खड़ा ही मिले

    हर एक पंक्ति लाजवाब....बेहद संवेदनशील रचना ...........

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत दिनों बाद एक अच्छा ब्लॉग देखा,पढ़ा,बधायी

    उत्तर देंहटाएं
  11. न गुजरें दिन न गुजरें रातें
    हाथों से उम्र फिसलती मिले
    बहुत खूब ...सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  12. भला बताओ वो दोस्त कैसे हुए
    फासले रख के जो दोस्तों से मिले
    सही है, ये दूर की दोस्ती किस काम की।

    उत्तर देंहटाएं
  13. छिपी हैं वेदनाएँ ही संवेदनाओं में
    इसीलिए हर कोई अक्सर हिलता ही मिले

    Bahut sunder...

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने लाजवाब ग़ज़ल लिखा है जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  15. अच्छे भाव हैं परन्तु गज़ल तकनीकी रूप से कमज़ोर है...नियम नहीं निभाये जा सके हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  16. भला बताओ वो दोस्त कैसे हुए
    फासले रख के जो दोस्तों से मिले ...
    बहुत खूब .. हाए शेर अपने आप में मुकम्मल बात रखता हुवा ... लाजवाब ....

    उत्तर देंहटाएं
  17. प्यास उम्रों से लगी है
    धूप छाया भी सुलगते ही मिले
    वाह ..बहुत खूब कहा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. कुँए-तालाब , पेड़-पौधे
    मौसम की राह तकते ही मिले
    भला बताओ वो दोस्त कैसे हुए
    फासले रख के जो दोस्तों से मिले
    ....fasalon se dosti mein duriya nirantar badhti jaati hai, phir bhi vqt-bevkt yaad aa hi jaati hain.....
    .bahut badiya prastuti..

    उत्तर देंहटाएं
  19. अमूमन,हम सब का जीवन ऐसे ही बीत रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. न गुजरें दिन न गुजरें रातें
    हाथों से उम्र फिसलती मिले

    सुन्दर,गहरी अभिव्यक्ति को प्रतिध्वनित करती पंक्तियाँ !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  21. जीने के बहाने थोड़े मिले
    मरने के बहाने बहुतेरे मिले

    प्यास उम्रों से लगी है
    धूप छाया भी सुलगते ही मिले

    बेहतर शेर
    सोच से भरे ख्यालात
    अच्दी बात

    उत्तर देंहटाएं
  22. जीने के बहाने थोड़े मिले
    मरने के बहाने बहुतेरे मिले
    वाह!क्या खूब कहा है!
    -हर शेर सरल मगर गंभीरता लिए लगा.

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं