मंगलवार, 6 मई 2014

पढ़े , तेरे खत फिर से

बरसों बाद पढ़े , तेरे खत फिर से 
वही मौसम गुजरा है , इक बार इधर फिर से 

वो जो धूप जमी थी, निगाहों के आस-पास 
तेरे चेहरे पे झिलमिलाती हुई , दिखी है इधर फिर से 

छोड़ आई थी जो पीछे , वो अल्हड़ सी जवानी 
जागी हैं वही नादानियाँ , देखो तो इधर फिर से 

रस्मों के सहारे से , महबूब बने तुम 
मेरी दुनिया दिल से , चली है इधर फिर से 

कौन जाने किसके खतों का , अन्जाम हो क्या 
दफ़न हों सीने में या जी उट्ठे ,लम्हा-लम्हा इधर फिर से 

दुनिया से छुपा कर , लिक्खा था जिन्हें 
फूल बन कर खिले हैं वही , महके हैं इधर फिर से 

12 टिप्‍पणियां:

  1. .

    "बरसों बाद पढ़े , तेरे खत फिर से
    वही मौसम गुजरा है , इक बार इधर फिर से"

    वाऽह…!

    क्या बात है !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बरसों बाद पढ़े , तेरे खत फिर से
    वही मौसम गुजरा है , इक बार इधर फिर से
    वाह ... क्या बात है .. मज़ा आ आया इस मतले पर ... गज़ब ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह-वाह क्या बात है। बहुत ही उम्दा रचना। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 8-5-14 को चर्चा मंच पर दिया गया है
    आभार

    उत्तर देंहटाएं

  5. dr.mahendrag ने आपकी पोस्ट " तो अपना क्या होगा " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

    छोड़ आई थी जो पीछे , वो अल्हड़ सी जवानी
    जागी हैं वही नादानियाँ , देखो तो इधर फिर से
    सुन्दर, वक्त वक्त की बात है



    dr.mahendrag द्वारा गीत-ग़ज़ल के लिए बुधवार, मई 07, 2014 को पोस्ट किया गया

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सब का बहुत बहुत शुक्रिया ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस उत्कृष्ट अभिव्यक्ति की चर्चा कल रविवार (11-05-2014) को ''ये प्यार सा रिश्ता'' (चर्चा मंच 1609) पर भी होगी
    --
    आप ज़रूर इस ब्लॉग पे नज़र डालें
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  8. दुनिया से छुपा कर , लिक्खा था जिन्हें
    फूल बन कर खिले हैं वही , महके हैं इधर फिर से
    ....छुपकर दिल से जो लिखी होती हैं ..तभी तो महकती हैं इधर उधर
    बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं

मैं भी औरों की तरह , खुशफहमियों का हूँ स्वागत करती
मेरे क़दमों में भी , यही तो हैं हौसलों का दम भरतीं